Header Ads Widget

Responsive Advertisement

जीवन परिचय : Arundhati roy biography in hindi

Arundhati roy biography in hindi


Arundhati roy का जीवन परिचय

अरुंधति रॉय जो इंडियन इंग्लिश राइटर थी आज आने वाले उन्हीं के बारे में- जीवन परिचय : Arundhati roy biography in hindi- अगर आप उनके फैन है तो कमेंट में अपनी राय जरूर दें |


 जीवनी :-

अरुंधति रॉय का जन्म 24 नवंबर 1961 को शिलांग मेघालय में हुआ था | इनका फुल नेम सुरजाना अरुंधति रॉय है | इनके पिता का नाम राजीव राय और माता का नाम मेरी राय है |

बात करें इनके एजुकेशन की तो उन्होंने स्कूल ऑफ प्लानिंग एंड आर्टी चैप्टर न्यू दिल्ली में अपनी शिक्षा को पूर्ण किया | यह राइटर भी हैं, एससीस्ट भी है इसके साथ एक्टिविस्ट भी है |


इन्होंने अपने जीवन में बहुत सारे अवार्ड भी नाम किए | जो इस प्रकार है | इन्हें पहला अवार्ड पुरस्कार 1997 में मैन बुकर प्राइस के नाम पर मिला | इसके बाद 2004 में इन्हें सिडनी पीस प्राइज अवॉर्ड से सम्मानित किए गए |


इनकी माता एक सोशल वर्कर है | इनके पिता बंगाली हिंदू है | जो कि एक प्लांटर है | परंतु अरुंधति के पेरेंट्स की जो मैरिज लाइफ थी | सफल नहीं हो पाई | जब अरुंधति 2 साल की थी तब उनके पेरेंट्स का डिवोर्स हो गया था | जिसकी वजह से अरुंधति राय के जीवन पर बचपन से ही बहुत ही ज्यादा प्रभाव पड़ा | और वह 16 साल की उम्र में घर छोड़ दिया |


अपने पैरों पर खड़े होने के लिए वह दिल्ली आकर एक गरीब टूटी फूटी टीम की झोपड़ी में रहने लगी | और अब अपनी जीविका चलाने के लिए एमपीटी बियर बोतल को सोल्ड करने लगी | इनका विवाह ग्रांड द कुन्हा से हुआ | परंतु इनकी भी मैरिज लाइफ सफल नहीं हो पाई | अपने माता पिता की तरह विवाह के 4 साल बाद वह एक दूसरे से अलग हो गए |

शिक्षा :-

इसके बाद उन्होंने शुरुआत की अपने जीवन की महत्वपूर्ण योगदाननो को | उन्होंने सबसे पहले दूरदर्शन के लिए टीवी सीरीज जैसे सो बनाने लगी | इसके बाद वह अपने आप को बहुत ही ज्यादा पॉलीटिकल इश्यूज और सोशल इश्यूज में अपने आप को बहुत ही ज्यादा बिजी कर लिया |

इसके साथ ही नेशनल इंस्टीट्यूट रिसर्च में भी काम किया | और वहां पर अपना बहुत नाम कमाया | इसके लिए उन्हें स्कॉलरशिप का पुरस्कार भी दिया गया |


उन्होंने अपने करियर की शुरुआत स्क्रिप्ट राइटिंग से शुरू की इन्होंने द गॉड ऑफ स्माल लिखा | जो 1997 में प्रसारित किया गया | इसके लिए इन्हें अवार्ड भी मिला | इन्होंने बहुत सारे आर्टिकल्स इंटरव्यू और बहुत सारी बुक्स लिखीं | इसके साथ उन्होंने अपने नोबेल में सोशल इश्यूज को भी प्रसारित किया | राष्ट्र में क्या आपदाएं है क्या इश्यूज हैं उन्होंने अपने नोबेल में विस्तार से लिखा है |


जीवन परिचय : Arundhati roy biography in hindi